04 अप्रैल 2011

सामूहिक ब्लॉग संचालकों के लिए विशेष

प्रिय ब्लोगर,

क्या आप कोई सामूहिक ब्लॉग चला रहे हैं ? या चलाना चाहते हैं ? यदि हाँ तो क्या आपने उसके लिए कोई प्लान बनाया या बना रहे हैं? इस पोस्ट में मैं बताने वाला हूँ कि आपको क्या करना चाहिए यदि आप एक सामूहिक ब्लॉग चलाना चाहते हैं अथवा चला रहे हैं-
सामूहिक ब्लॉग एक पत्रिका की तरह होता है, जिस प्रकार कोई भी पत्रिका किसी खास वर्ग के लिए लिखी जाती है ठीक वैसे ही सामूहिक ब्लॉग भी किसी खास वर्ग के लिए लिखा जाना चाहिए |
उदहारण लेते हैं - माना एक पत्रिका आती है "विज्ञान और विज्ञान" माना कि इसका मूल्य २० रु. है, आप दुकान में गए और आपने पहली बार यह पत्रिका देखी और खरीद ली, क्यूंकि आपको लगा कि यह पत्रिका आपको विज्ञान की अच्छी जानकारी देगी | अब आप इत्मीनान से इस पत्रिका को पढ़ने के लिए बैठे और इसमें कुछ इस प्रकार के लेख हैं 
  1. रैम्प पर चलते समय एक मॉडल का टॉप हुआ डाउन टू अर्थ |
  2. मनमोहन ने मैच के दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को न्यौता दिया |
  3. विज्ञान को सिखाने के कुछ आसान तरीके |
  4. क्या आपने आज नाश्ता किया ? 
  5. इस माह की मुख्य फ़िल्में - जरूर देखें | 
आपका तो पता नहीं पर मेरा दिमाग इन लेखों को पढ़ कर जरूर खराब हो जायेगा और मैं आगे से "विज्ञान और विज्ञान" लेना बंद कर दूँगा | अरे भाई, यदि मुझे इस तरह के लेख पढ़ने होते तो मैं इसी प्रकार की मैगजीन लेता ना, मैं क्यूँ मेरे २० रु. "विज्ञान और विज्ञान" पर बर्बाद करता ?

पाठकों के इस मनोविज्ञान का ध्यान उस मैगजीन के संपादक, प्रधान संपादक आदि रखते हैं और इसलिए आपको किसी भी सफल मैगजीन के अंदर सिर्फ विषय से सम्बंधित लेख ही मिलेंगे |

अंतरजाल पर समय उतना ही महत्त्व रखता है जितना हमारी जिंदगी में रुपये का महत्त्व है | पाठक कोई भी ऐसी चीज नहीं पढ़ना चाहता जो उसके मतलब की नहीं है, और आपको यह देखना पड़ता है कि आप ऐसा क्या करें कि पाठक आपके सामूहिक ब्लॉग पर ज्यादा समय विचरण करें, या कुल मिला कर आपकी साईट से जाएँ नहीं|

मैगजीन / सामूहिक ब्लोगिंग


मैगजीन तथा सामूहिक ब्लोगिंग में अंतर
  • मैगजीन को तैयार करने में काफी मेहनत करनी पडती है पर सामूहिक ब्लॉग को तैयार करना बहुत आसान होता है
  • मैगजीन को उसके अंजाम तक पहुँचाने में बहुत धन खर्च होता है पर सामूहिक ब्लॉग में धन ना के बराबर खर्च होता है 
  • मैगजीन से संस्थापकों को आर्थिक लाभ होता है पर सामूहिक ब्लोग संचालकों को फायदा नहीं होता (हालांकि यह एक भ्रम है, जिसको अपने किसी अन्य लेख में तोडूंगा)
  • मैगजीन में लिखने वाले लेखकों को रु. मिलते हैं पर सामूहिक ब्लॉग में लिखने वाले ब्लोगरों को किसी प्रकार का आर्थिक लाभ नहीं होता (एक भ्रम)
  • मैगजीन में कोई भी लेख लिखे जाने से पहले कई नज़रों से होकर गुजरता है, सामूहिक ब्लोगों पर लेख प्रकाशित होने से पहले सिर्फ लेखक ने पढ़ा होता है :( 
  • मैगजीन में एकरूपता का ध्यान रखा जाता है पर सामूहिक ब्लॉग पर लेखक फॉण्ट के आकार, रंग इत्यादि का उचित प्रयोग नहीं करते 
मैगजीन तथा सामूहिक ब्लॉग में समानताएं   
  • दोनों को सफल बनाने के लिए संस्थापक तथा टीम के अन्य सदस्यों को बहुत मेहनत करनी पड़ती है | बस ध्यान यह रखना पड़ता है कि यह मेहनत घोड़े वाली होनी चाहिए गधे वाली नहीं |
  • दोनों को सफल बनाने के लिए लेखकों को अच्छा लिखने के लिए प्रेरित करते रहना पड़ता है |

क्या करें सामूहिक ब्लॉग संस्थापक

पाठक वर्ग निश्चित करें

सामूहिक ब्लॉग के पाठक कौन होंगे यह निश्चित कर लें, याद रखें यह ना सोचें कि सभी इंटरनेट उपभोक्ता आपके पाठक होंगे क्यूंकि यह संभव नहीं है उदाहरण के तौर पर मैंने आज तक कभी भी अभिनय कैसे करें विषय पर कोई लेख नहीं पढ़ा है, क्यूंकि यह मेरा मनपसंद क्षेत्र नहीं है आप भी यदि सोचेंगे तो पायेंगे कि आप भी कुछ खास चीजें पढ़ना ही पसंद करते हैं, कोई कविता, कहानी, गजल ज्यादा पढता है, किसी को समाचार ज्यादा पसंद होते हैं, कोई सिर्फ धार्मिक लेख पढ़ना ही पसंद करता है, कोई व्यंग्य पढ़ना पसंद करता है, कोई मनोरंजक सामग्री को खोजता है| उम्मीद है कि आपको यह समझ में आ गया होगा कि आपको किसी खास वर्ग के पाठकों के लिए लिखना होगा|

जरूरी नियुक्तियां करें

अब कुछ न्युक्तियाँ करें जिसमें आपके (प्रबंधक) अलावा संपादक, सह-संपादक, प्रूफ-रीडर, अनुवादक तथा तकनीकी विशेषज्ञ शामिल हों क्यूंकि आगे के सभी कार्य आप सभी मिल कर ही कर सकते हैं

श्रेणी / कॉलम निर्धारित करें

अब जब आपने लिखने के लिए कोई खास वर्ग चुन ही लिया है तो अगला कार्य है कुछ दिलचस्प कॉलम निर्धारित किये जाएँ जैसे कि "क्या आप जानते हैं", "ऐसा भी होता है", "प्रथम महिला / पुरुष", "अजीबोगरीब" इत्यादि, बाकी आपकी रचनात्मक क्षमता पर निर्भर करता है कि आप कैसे अच्छे - अच्छे कॉलम बनाते हैं | अब आते हैं श्रेणियों पर लगभग हर क्षेत्र में आपको बहुत श्रेणियाँ मिल ही जायेंगी जैसे कि यदि तकनीकी क्षेत्र को ले लिया जाए तो इसमें गैजेट, मोबाइल, इंटरनेट, ऑपरेटिंग सिस्टम, लैपटॉप इत्यादि आ सकते हैं ठीक ऐसे ही अन्य क्षेत्रों में भी श्रेणियाँ निर्धारित की जा सकती हैं|

नियम निर्धारण

अब नियम निर्धारित कीजिये जिसमें तकनीकी, नैतिक तथा कानूनी नियम शामिल होने चाहिए| सभी महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्त किये गए व्यक्तियों के लिए कार्य का निर्धारण कीजिये|

आमंत्रण पत्र तैयार किया क्या ?

सभी अब एक बढ़िया सा आमंत्रण पत्र तैयार कीजिये जिसमें आपके सामूहिक ब्लॉग के लिए निश्चित किये गए सभी नियम, उद्देश्य, महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्त किये गए व्यक्तियों की सूची होनी चाहिए| अब ब्लॉगजगत में देखिये कि कौन से लेखक आपके सामूहिक ब्लॉग में शामिल होने के लिए उपयुक्त हैं, उन सभी को यह निमंत्रण पत्र भेज दीजिए कोशिश कीजिये कि प्रारंभ में 10 से अधिक लेखक ना हों |

दंड तथा प्रोत्साहन

लेखक जो आपके सामूहिक ब्लॉग के लिए लिख रहे हैं आप उनको कैसे प्रोत्साहित करेंगे यह सोचिये,  जैसे कि उनके ब्लॉग के लिंक को सामूहिक ब्लॉग पर स्थान देना, माह के अंत में सर्वश्रेष्ठ लेखक इत्यादि की घोषणा कीजिये| याद रखिये कि जब कोई लेखक नियम भंग करता है तो उसको दंड कैसे देना है जैसे कि सदस्यता निष्कासित करना इत्यादि |

कुछ हट कर

क्या आपने कुछ हट कर किया? जैसे कितना अच्छा हो कि आप माह के अंत में एक ई-पत्रिका प्रकाशित करें जिसमें उस माह में लिखे गए सभी अच्छे लेखों को स्थान दिया जाए| प्रति माह ई-पत्रिका प्रकाशित करना ना सिर्फ आपके सामूहिक ब्लॉग की लोकप्रियता को बढ़ाएगा बल्कि इससे वो लोग भी लेखों को पढ़ पाएंगे जिनके पास इंटरनेट नहीं है अथवा कभी-कभी ही इंटरनेट का प्रयोग कर पाते हैं, कुछ इस तरह की ई-पत्रिका आप हर माह प्रकाशित कर सकते हैं

अगले लेख में पढ़ें "सामूहिक ब्लॉग चलाने के लिए कुछ जबरदस्त आइडिया"|

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...