03 जनवरी 2013

एक अध्यापक के लिए वेब २.० वेबसाइट

बहुत बात हो चुकी है इस बारे में कि एक वेब २.० वेबसाइट में क्या क्या होता है अब बात करते हैं कि यदि एक अध्यापक के लिए वेब २.० प्रौद्यौगिकी पर आधारित वेबसाइट बनानी हो तो उसमें क्या क्या होना चाहिए|

  • कंटेंट लिखने की सुविधा: एक अध्यापक सामान्यता वह भाषा  (HTML) नहीं जानता जिसकी सहायता से वह वेबसाइट पर लेख लिख सके इसलिए एक ऐसा टेक्स्ट एडिटर अध्यापक को मिलना चाहिए जिसकी सहायता से अध्यापक को अपने लेखों को फॉर्मेट करने में असुविधा ना हो|
  • ब्लॉग: ब्लॉग अध्यापक को वह सुविधा देगा जहां पर अध्यापक अपने विद्यार्थियों से सीधा संपर्क बना सकता है, यहाँ पर वह समय के अनुसार लेख लिख सकता हैं जैसे कि परीक्षा आने पर परीक्षा में कैसे लिखा जाए, छुट्टियों में क्या-क्या किया जाये, प्रोजेक्ट के नये-नये आइडिया इत्यादि|
  • कमेन्ट सिस्टम: ब्लॉग में तथा वेबसाइट के अन्य कंटेंट पर कमेन्ट की सुविधा होना अनिवार्य है जिससे आपको यह भी पता लगे कि आपके विद्यार्थी आपके लेखों के बारे में क्या विचार रखते हैं, क्या-क्या जानना चाहते हैं| विद्यार्थियों के विचारों को जानकार आप अपने आगे के लेखों के बारे में विचार कर सकते हैं|
  • पॉडकास्ट एम्बेड करने की सुविधा: जैसा कि पिछले लेख में बताया जा चुका है डिजिटल मीडिया को पॉडकास्ट कहा जाता है, आप वीडियो बना सकते हैं जिसे आप वीडियो शेयरिंग साइट जैसे कि यू-ट्यूब, वीमियो, ब्लिप.टी.वी. इत्यादि पर रख सकते हैं और उसके बाद उनको अपनी वेबसाइट पर एम्बेड कर सकते हैं| इसी प्रकार आप ऑडियो शेयरिंग साइट का प्रयोग करते हुए अपने ऑडियो पॉडकास्ट को किसी और साइट पर अपलोड करके उसको अपनी साइट पर एम्बेड कर सकते हैं अथवा उसका लिंक अपने विद्यार्थियों को दे सकते हैं| अपने डोक्यूमेंट को शेयर करने के लिए आप डोक्यूमेंट शेयरिंग साइट जैसे कि स्लाइडशेयर का प्रयोग कर सकते हैं| सामान्यता सभी पॉडकास्ट शेयरिंग वेबसाइट आपके कंटेट को एम्बेड करने की सुविधा प्रदान करतीं हैं|
  • टैग: मान लीजिए कि आप किसी एक बिषय पर कई पेज, ब्लॉग, वीडियो, ऑडियो इत्यादि अपनी वेबसाइट पर लिख चुके हैं, अब आप अथवा आपके विद्यार्थी इन सभी चीजों को एक ही साथ देखना चाहते हैं तो कैसे देखेंगे? टैग आपको यही सुविधा प्रदान करता है| टैग के जरिये आप अपने पूरे कंटेट को वर्गीकृत कर सकते हैं|
  • सिग्नल: किसी भी प्रकार की फीड की सुविधा आपकी वेबसाइट में होनी चाहिए जिससे आपकी वेबसाइट के अपडेट होने पर तमाम वेब एप्लीकेशन को आपकी वेबसाइट के अपडेट होने के बारे में पता चल जाए| ऐसी कई एप्लीकेशन हैं जिनका उपयोग विद्यार्थी फीड सब्सक्राइब करने के लिए करते हैं जैसे ही आपकी वेबसाइट पर नया कंटेंट जोड़ा जाएगा विद्यार्थी को अपनी एप्लीकेशन पर पता चल जाएगा और वह तुरंत ही आपके नये लेख को पढ़ लेगा| यदि फीड हर टैग के लिए उपलब्ध हो तब तो कहना ही क्या, इस स्थिती में आपके पाठकों की संख्या में काफी इजाफा होने की सम्भावना है|
  • सोशल बुकमार्किंग: जिससे आपके विद्यार्थी आपके लेखों को दूसरे विद्यार्थियों के साथ सोशल नेट्वर्किंग वेबसाइट पर शेयर कर सकें|


यह एक अध्यापक की वेबसाइट में होने वाले कुछ प्रमुख गुण हैं, पर जरूरत के हिसाब से इनमें इजाफा हो सकता हैं जैसे कि पब्लिकेशन का लिंक, विकी, टेस्ट लेने की सुविधा, यह लिस्ट जरूरत के हिसाब से काफी लंबी हो सकती है|

वेबसाइट पर आने वाले खर्चा:
वेबसाइट बनाने में मुख्य रूप से चार चीजों पर खर्चा करना पड़ता है-
  1. डोमेन नेम- यह सालाना खर्चा है आपको अपने लिए डोमेन नेम प्रतिबर्ष खरीदना होता है|
  2. होस्टिंग- यह वह जगह होती है जहां पर आपके बेबसाइट की फाइलें रखीं जाती हैं, यह अलग-अलग होस्टिंग सर्विस देने बाली कंपनी पर निर्भर करता है सामान्यता 1 GB स्पेस के लिए 500-1200 रुपये तक प्रतिबर्ष देने पड़ते हैं|
  3. वेबसाइट डेवलेपमेंट- वेबसाइट बनाने की प्रक्रिया को वेबसाइट डेवलेपमेंट कहा जाता है, इसमें आपकी वेबसाइट में आपके जरूरत के अनुसार बनाया जाएगा, यह एक बार लिया जाता है तथा जब भी आप कोई नया फीचर जोड़ना चाहें तब लिया जाता है|
  4. वेबसाइट मेंटेनेंस- यह किसी भी वेबसाइट के लिए बहुत महत्वपूर्ण है इसमें समय-समय पर वेबसाइट में आने बाली दिक्कतों को दूर करना, वेबसाइट का बैकअप लेना इत्यादि शामिल होता है|
मुख्य रूप से वेबसाईट बनाने में आने वाला खर्च आपकी जरूरत पर निर्भर करता है, पर यदि एक सामान्य वेबसाइट की बात करें तो डोमेन नेम तथा वेब-स्पेस लेने के बाद कोई वेब-डिजानर 8000-25000 रु. में आपके लिए यह वेबसाइट बना देगा फिर आगे आपकी जरूरतों के हिसाब से इसमें इजाफा हो सकता है|

अपने एक मित्र के लिए मैंने एक ऐसी वेबसाइट बनाई है आप http://rkthenua.in पर देख सकते हैं| यदि आप अपने लिए एक ऐसी वेबसाइट चाहते हैं तो मुझे संपर्क करें yogendra.pal3@gmail.com पर इसमें आपको सालाना 7000/- के लगभग खर्चा आएगा|

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...